YOGIYOJANA.CO.IN : सरकारी योजनाओं की जानकारी हिंदी और अंग्रेजी में, सरकारी योजना : Sarkari Yojana in Hindi / English | प्रधानमंत्री व राज्य सरकार की योजनाएं 2020​

Thursday, 22 October 2020

पीएम श्रमिक सेतु पोर्टल और ऍप - प्रवासी मजदूर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन (पंजीकरण) | PM Shramik Setu Portal Online Registration / Mobile App Download

**मेरे प्यारे साथियों** आज हम आपको बताएंगे की केंद्र की मोदी सरकार प्रवासी मजदूरों के लिए नए श्रमिक सेतु पोर्टल और ऍप का विकास करने जा रही है। इस पोर्टल से असंंगठित क्षेत्र के मजदूर बहुत सी कल्याणकारी योजनाओ की जानकारी प्राप्त कर सकेंगे और उनका लाभ उठाने के लिए ऑनलाइन आवेदन कर सकेंगे। 

मोदी जी ने कहा है कि कुछ लोग ऐसे है जो कोरोनावायरस के खिलाफ लड़ाई में ग्रामीणों के प्रयासो की सराहना नहीं कर सकते है, उनकी दिक्कतों को नहीं समझ सकते है, कि वो गरीब श्रमिक कितने परेशान है उनके पास कोई काम-काज भी नहीं है। लेकिन मोदी जी कोविड-19 के खिलाफ ग्रामीणों के प्रयासो की सराहना करते है। 
प्रधान मंत्री ने कहा है कि जिस तरह से ग्रामीणों ने कोरोनावायरस से लड़ाई लड़ी है, ग्रामीणों ने शहरो को एक बड़ा सबक सिखाया है इसलिए मोदी जी ने श्रमिक सेतु पोर्टल एप्प का निर्माण किया है।  

पीएम श्रमिक सेतु पोर्टल और ऍप (PM Shramik Setu Portal / App) 

सूत्रों के अनुसार पता चला है कि प्रवासी मजदूरों तक पहुंचने के लिए मोदी सरकार, एक नई श्रमिक सेतु ऑनलाइन पोर्टल और ऍप शुरू करने की योजना बना रही है। इस पोर्टल से मजदूरों को न केवल केंद्र और राज्य सरकारों द्वारा चलाई जा रही विभिन्न योजनाओ की पूरी जानकारी मिलेगी, साथ ही ऑनलाइन आवेदन देकर वो उनके फायदों से लाभान्वित भी हो पाएंगे। मोदी जी ने कहा है की उनकी सरकार का प्रयास है कि श्रमिको को उनके घर के पास नौकरी मिले और उनके गांवो के विकास में मदद मिले। 

प्रवासी मजदूर ऑनलाइन रजिस्ट्रेशन (पंजीकरण) 

केंद्र श्रम व रोजगार मंत्रालय की इस पहल में, उम्मीद है कि सरकार अगले महीने श्रमिक सेतु ऍप लॉन्च कर सकती है। सरकारी सूत्रों ने बताया है कि इस प्रोजेक्ट को,प्रधानमंत्री कार्यालय से पहले ही मंजूरी मिल चुकी है। श्रम मंत्रालय के अनुसार असंगठित क्षेत्र में काम करने वालो को अपने आधार या बैंक अकाउंट नंबर इस्तेमाल करते हुए, श्रमिक सेतु पोर्टल पर पंजीकरण (रजिस्ट्रेशन) करना होगा। उन्हें अपने नाम, उम्र, पैतृक स्थान और काम आदि की जानकारी भी देनी होगी कि वो कहा काम करते है, क्या काम करते है, जैसे विवरण भरने होंगे।  

ये पहल उन बहुत से उपायों में से एक है,जो मोदी सरकार ने 25 मार्च के बाद से किए है जब कोरोनावायरस महामारी की वजह से देशव्यापी लॉकडाउन से लाखो प्रवासियो का काम-काज छिन गया था। प्रवासी मजदूरों ने शुरू में ही बहुत सी मुश्किलों का सामना करना पड़ा था, शुरू में उनकी मुसीबतो को अनदेखी करने के आरोप में भारी आलोचना सहने के बाद, सरकार ने बहुत सी कल्याणकारी योजनाओ का ऐलान किया था। हाल ही में शुरू की गई प्रधानमंत्री गरीब कल्याण रोजगार योजना के तहत मुफ्त राशन और रोजगार शामिल थे। 

श्रमिक सेतु में असंगठित क्षेत्र के श्रमिको और प्रवासी मजदूरों का पूरा डेटा होगा। उन्होंने आगे कहा है कि एक बार पंजीकरण कर लेने के बाद,वो देख सकेंगे कि राज्यों की और से क्या कल्याण योजनाएं चलाई जा रही है और वो उनसे कैसे लाभान्वित हो सकते है।
 

श्रमिक सेतु से किन योजनाओं का मिलेगा लाभ  

अधिकारी ने कहा है कि श्रमिक सेतु योजना के तहत, असंगठित सेक्टर के श्रमिक भी ऑनलाइन आवेदन करके सरकार की प्रधानमंत्री जीवन ज्योति बीमा योजना और पीएम श्रम योगी मान-धन योजना जैसी बीमा और पेंशन स्कीमों का लाभ उठा सकते है।  प्रवासी श्रमिक अगर दूसरे शहर या प्रदेश चले जाते है,तो वो अपने राज्य को अपडेट भी कर पाएंगे। 

श्रमिक सेतु ऍप डाउनलोड करें गूगल प्ले स्टोर पर

श्रमिक सेतु पोर्टल एप्प को अपने मोबाइल फ़ोन पर गूगल प्ले स्टोर से डाउनलोड भी कर सकते है। पंचायत स्तर पर स्थापित,कॉमन सर्विस सेंटर्स / ई -सुविधा केंद्रो पर जाकर रजिस्टर करा सकते है, जो पढ़े -लिखे नहीं है उनकी मदद के लिए भी कॉमन सर्विस सेंटर्स में स्टाफ होता है। श्रमिको के लिए बहुत बड़ी मदद होगी, पोर्टल पर वो अपनी शिकायते भी दर्ज करा सकते है। श्रमिको को खुद को रजिस्टर करके आवेदन करना है और उनके खाते में पेंशन ट्रांसफर भी कर दी जाएगी।

श्रम मंत्रालय ने श्रमिक सेतु का बुनियादी काम पहले ही पूरा कर लिया है। श्रम मंत्रालय के पहले अधिकारी ने कहा है कि इस पोर्टल को नेशनल इनफॉरमेटिक्स सेंटर द्वारा स्थापित किया जायेगा। प्रोजेक्ट पर बातचीत करने के लिए मंत्रालय पीएमओ के साथ कई बैठके कर चुका है। अधिकारी ने कहा है कि शुरू में बात हुई थी कि हर प्रवासी मजदूर को एक पहचान नंबर दिया जाएगा। लेकिन पीएमओ ने ये कहकर उसे खत्म कर दिया कि एक दूसरे नंबर की जरूरत नहीं है, आधार नंबर का होना ही बहुत है।      

No comments:

Post a comment