YOGIYOJANA.CO.IN : सरकारी योजनाओं की जानकारी हिंदी और अंग्रेजी में, सरकारी योजना : Sarkari Yojana in Hindi / English | प्रधानमंत्री व राज्य सरकार की योजनाएं 2020​

Friday, 26 June 2020

आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान 2020 (यूपी गरीब कल्याण रोज़गार योजना) | Atma Nirbhar UP Rojgar Abhiyan under PM Garib Kalyan Rozgar Abhiyaan

**मेरे प्यारे साथियों** आज हम आपको आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान (यूपी गरीब कल्याण रोज़गार योजना) के बारे में बतायेंगे। आत्मनिर्भर यूपी रोजगार अभियान को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी जी द्वारा लांच कर दिया गया है। इस योजना के तहत उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार प्रदेश में प्रवासी मजदूरों समेत करीब 1.25 करोड़ लोगो को रोजगार दिलाने का काम शुरू करेगी। प्रधानमंत्री मोदी जी ने आज सुबह शुक्रवार 26 जून 2020 को आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान शुरू करी है। पीएम ने सुबह दिल्ली से व सीएम योगी आदित्यनाथ लखनऊ सहित 6 जिलों के लाभार्थियों से बातचीत भी करी। आइए हम सबसे पहले आपको इस अभियान से जुडी जानकारी देते है। 

महिला लाभार्थियों से भी रोजगार के मुद्दे पर प्रधानमंत्री मोदी जी के साथ अपने अनुभव सांझा किया। पीएम मोदी जी द्वारा शुरू की गई आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान  (यूपी गरीब कल्याण रोज़गार योजना) देश का सबसे बड़ा रोजगार सृजन कार्यक्रम होगा। यह आत्म निर्भर यूपी रोजगार अभियान विशेष रूप से उत्तर प्रदेश के 1.25 करोड़ निवासियों को नौकरी के अवसर प्रदान करने के लिए तैयार किया गया है। यह हाल ही में शुरू किए गए पीएम गरीब कल्याण रोजगार अभियान का एक हिस्सा है जिसमे यूपी राज्य को कार्यान्वयन के लिए चुना गया है। आत्मनिर्भर यूपी रोजगार अभियान में सरकार शहरी क्षेत्रों में सभी गरीब लोगो को विशेष रूप से (MNREGA) महात्मा गाँधी राष्ट्रीय ग्रामीण रोजगार गारन्टी अभिनियम की तर्ज पर प्रवासी श्रमिको को 125 दिन का रोजगार प्रदान करेंगा। 
यूपी में 30 लाख से अधिक प्रवासियो की वापसी व लॉकडाउन के दौरान काम बंद होने से बेरोजगार हुए मजदूरों के काम के लिए सीएम योगी आदित्यनाथ ने अफसरो से विस्तृत कार्ययोजना बनाने को कहा था। पीएम ने इससे जुड़कर यूपी सरकार के साथ ही लखनऊ, सिद्धार्थनगर, गोंडा, बहराइच, गोरखपुर और जालौन के लाभार्थियों से बातचीत करी। कार्यक्रम में केंद्र के गरीब रोजगार कल्याण अभियान के साथ ही गरीब कल्याण पैकेज के तहत (MSME) छोटे,बड़े,और माध्यम वर्गों को 9100 करोड़ रूपये का कर्ज दिया जाएगा।

आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान 2020

आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान का मुख्य उदेश्य यूपी राज्य में वापिस आने वाले प्रवासियो के लिए रोजगार और उद्यमशीलता के अवसर पैदा करना है। अकेले उत्तर प्रदेश में लगभग 30 लाख प्रवासी श्रमिक अपने पैतृक गांवो में लौट आये थे। राज्य के लगभग 31 जिलों में 25,000 से अधिक प्रवासी दिहाड़ी मजदूर है जो इस अभियान से लाभान्वित होंगे। पीएम मोदी ने 26 जून 2020 को प्रवासियो के लिए आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान का शुभारंभ किया।

यूपी गरीब कल्याण रोजगार योजना लांच

यूपी सीएम योगी आदित्यनाथ जी की मौजूदगी में वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए पीएम ने यूपी गरीब कल्याण रोजगार योजना का शुभांरभ एक आयोजित समारोह में किया। प्रधानमंत्री मोदी ने आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान लांच समारोह के आधिकारिक शुभांरभ के भाग के रूप में उत्तर प्रदेश के 6 जिलों के ग्रामीणों के साथ बातचीत करी। 

उत्तर प्रदेश के सभी जिलों के गांव कॉमन सर्विस सेंटर और कृषि विज्ञान केंद्रो के माध्यम से इस आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान में शामिल हुए। आधिकारिक आत्मनिर्भर उत्तर प्रदेश रोजगार अभियान में ग्रामीणों ने कोविड-19 महामारी के कारण सामाजिक दूरी के मानदंडों को बनाए रखा है। उत्तर प्रदेश गरीब कल्याण रोजगार योजना का उद्देश्य स्थानीय उद्यमिता को बढ़ावा देना और रोजगार के अवसर प्रदान करने के लिए औद्योगिक संगठनो और अन्य संगठनो के साथ सांझेदारी बनाना है। 

पीएम गरीब कल्याण रोजगार अभियान

ग्रामीण सार्वजानिक कार्य योजना या पीएम गरीब कल्याण रोजगार अभियान की घोषणा सबसे पहले वित्त मंत्री निर्मला सीतारमण ने राष्ट्रीय स्तर पर की थी। इस अभियान के अंतर्गत मेहनती व  प्रतिष्ठित प्रवासियो और ग्रामीण नागरिको को रोजी-रोटी के अवसर प्रदान करना लक्ष्य था। पीएम के द्वारा गरीब कल्याण रोजगार अभियान का उद्देश्य प्रवासी श्रमिको को रोजगार प्रदान करना और 5 राज्यों में 116 जिलों में 25 सरकारी योजनाओ को एक साथ लेकर बुनियादी ढांचे को बढ़ावा देने है। 

आत्मनिर्भर यूपी रोजगार अभियान की आवश्यकता

कोरोनावायरस महामारी विशेष रूप से सामान्य और प्रवासी श्रमिको की मेहनत पर दिन-प्रतिदिन बहुत प्रभाव डाल रहा है। गरीब प्रवासी अपने काम-काज को लेकर बहुत ही परेशान है की वो अपने परिवार का पालन-पोषण कैसे करे। देशभर बंद होने की वजह से देशभर के व्यवसायों के रूप में कई राज्यों में बड़ी संख्या में प्रवासी मजदूरों की वापसी हुई है। प्रवासियो और ग्रामीण श्रमिको को बुनियादी सुविधाएं और रोजी-रोटी के साधन उपलब्ध कराना अब बहुत महत्वपूर्ण है। केंद्र सरकार ने पहले ही भारत के विभिन्न क्षेत्रों को प्रोत्साहित करने के लिए  20 लाख करोड़ रूपये का आत्मनिर्भर भारत अभियान आर्थिक पैकेज दे दिया है। 

अब आत्मनिर्भर यूपी गरीब कल्याण रोजगार अभियान उस मेगा आत्मनिर्भर भारत अभियान का एक हिस्सा है। इस योजना का उद्देश्य देश के पिछड़े क्षेत्रों में आधारभूत सरंचना बनाने की दिशा में जोर देने के साथ रोजगार के अवसर पैदा करना है। इससे पहले,पीएम गरीब कल्याण रोजगार अभियान 20 जून 2020 को देश के 116 जिलों में शुरू किया गया था। 

यूपी में प्रवासी श्रमिको का कौशल मानचित्रण 

इससे पहले,सीएम योगी आदित्यनाथ ने अधिकारियो से मजदूरों की कौशल मानचित्रण करने को कहा है,जिन्हे उनके कौशल के अनुसार काम दिया जाएगा। पूर्व मुख्यमंत्री अखिलेश यादव ने सीएम योगी पर एक रैली में 1 करोड़ की नौकरी देने की घोषणा का आरोप लगाया है। पूर्व सीएम ने कहा की किए को जाकर लोगो से पहुंचना चाहिए कि उन्हें बैग में क्या मिला। 

Atma Nirbhar Uttar Pradesh Rojgar Abhiyan Launch by PM Modi - Read in English

Prime Minister Narendra Modi has launched the Atma Nirbhar Uttar Pradesh Rojgar Abhiyan through video conferencing in the presence of chief minister Yogi Adityanath on 26 June 2020. In Uttar Pradesh, nearly 30 lakh migrant workers returned to their native districts following the loss of livelihood in metropolis due to Covid-19 lockdown. The initiative is focused on generating employment opportunities in 31 districts of the state which have reported more than 25,000 returnee migrant workers. 

Atma Nirbhar UP Rojgar Abhiyan under PM Garib Kalyan Rozgar Abhiyaan

Here are the key points from PM Modi inauguration speech:-
  • PM Modi in his address said that the bravery shown by Uttar Pradesh in the face of Coronavirus crisis is commendable. PM said that "I salute the people of Uttar Pradesh. All of you have set an example for the world".
  • Be it UP's doctors, paramedical staff, sweepers, policemen, ASHAs, Anganwadi workers, bank and post office colleagues, transport department partners, labor colleagues, everyone contributed with full devotion.
  • The efforts and achievements of Uttar Pradesh are massive because it is not just one state, but a bigger state than many countries of the world. People of UP are realizing this achievement themselves, but if you know the figures, you will be surprised even more.
  • The combined population of France, Italy, Spain and the UK is equal to Uttar Pradesh's population. More than one lakh people have died in these countries but in UP only 600 died due to Covid-19.
  • I am confident that other states can take inspiration from Yogi Ji's leadership given how he has turned a disaster into an opportunity.
  • We can say that in a way, the UP government has managed to save the lives of at least 85 thousand people! Today if we are able to save the lives of our citizens, then it is also a matter of great satisfaction. We could not have expected these results in UP by earlier governments before 2017.
  • Under the PM Garib Kalyan Rozgar Yojana, many works are being started in villages to increase the income of laborers.
  • About 60 lakh people are being given employment in small industries i.e. MSMEs in schemes related to village development. In addition to this, a loan of about 10 thousand crore rupees has been allocated to thousands of entrepreneurs under the Mudra Yojana for self-employment.
  • PM Modi also interacted with some migrant workers from Jalaun, Bahraich, Gonda districts among others to take stock of the assistance they received from government during lockdown and to also generate employment locally.
  • Ahead of launching the initiative, PM Modi had said in a tweet that the Self-reliant Uttar Pradesh Rozgar Abhiyan aims to promote local entrepreneurship along with providing employment opportunities to migrant workers.
  • CM Adityanath said that during the Covid-19 crisis, "the way the Prime Minister has shown the direction to the country and gave the message of Jaan bhi aur Jahaan bhi is highly appreciable. Following a similar direction, Uttar Pradesh is working for the welfare of its labourers by providing them employment. The step has been taken under Prime Minister Modi's dream of Self-reliant India.
  • CM Adityanath said that Uttar Pradesh government has successfully completed skill mapping of over 3 lakh migrant workers. Among those mapped, a large number of workers used to work as construction labourers in cities and in the real estate sector. Among others are tailors, drivers and domestic cleaners.
As part of the Atma Nirbhar Bharat initiative, 5,000 workers will be distributed tool-kits. These workers consists of ironsmiths, tailors, hairdressers, carpet weavers, soap makers, tanners and textile workers among others.

No comments:

Post a comment