YOGIYOJANA.CO.IN : सरकारी योजनाओं की जानकारी हिंदी और अंग्रेजी में, सरकारी योजना : Sarkari Yojana in Hindi / English | प्रधानमंत्री व राज्य सरकार की योजनाएं 2020​

Tuesday, 27 October 2020

छत्तीसगढ़ राजीव गाँधी किसान न्याय योजना 2020 ऑनलाइन आवेदन - CG Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana in Hindi

छत्तीसगढ़ सरकार ने किसानों के लिए एक नयी राजीव गाँधी किसान न्याय योजना 2020 का शुभारम्भ कर दिया है| इस योजना के अंतर्गत धान, मक्का, गन्ना की खेती करने वाले 19 लाख किसानो को राज्य सरकार 30,000 रुपये सालाना देगी| यह रकम सीधा किसानो के बैंक खाते में 4 किश्तों मे डाली जाएगी| राजीव गाँधी किसान न्याय योजना के अंतर्गत राज्य के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने 5700 करोड़ की राशि प्रस्तावित की है|
अब आप लोगों के मन में ये सवाल उठ रहा होगा की 1) राजीव गाँधी किसान न्याय योजना कब लांच की जाएगी? 2) इस योजना के अंतर्गत 30,000 रुपये पाने के लिए आपको क्या करना होगा? 3 )इस योजना के आवेदन पत्र (एप्लीकेशन फॉर्म) ऑनलाइन होंगे या ऑफलाइन? 4) पंजीकरण करने के लिए पात्रता क्या होगी? 5) लाभार्थी सूची (लिस्ट) कब आएगी?
इन सभी सवालों का जवाब देने के लिए ही आपको CG Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana in Hindi पोस्ट को पढ़ना जरुरी है| आशा करते हैं की अंत तक पढ़ने पर आपको आपके सारे सवालों के जवाब मिल जाएंगे|  

CG Rajiv Gandhi Kisan Nyay Yojana in Hindi

इस योजना के बारे में पूछे गए सभी सवालों के जवाब इस प्रकार हैं:-

राजीव गाँधी किसान न्याय योजना कब लांच की जाएगी

आप लोगों को ये जान कर ख़ुशी होगी की छत्तीसगढ़ के मुख्यमंत्री भूपेश बघेल ने इस योजना की शुरुआत 21 May 2020 को कर दी है| इस योजना के अंतर्गत हर किसान को 4 किश्तों में 30,000  मिलने हैं, जिसका मतलब की प्रत्येक किश्त 7,500 रुपये की होगी| मुख्यमंत्री ने 21 मई 2020 (राजीव गाँधी की पुण्यतिथि) को किसानों के खाते में पहली किश्त डाल दी है और इसके लिए राज्य सरकार ने 1500 करोड़ रुपये दे दिए है| वीडियो कॉन्फ़्रेंसिंग के जरिये कांग्रेस की कार्यकारी अध्यक्ष सोनिया गाँधी और राहुल गाँधी भी इस स्कीम के लांच से जुड़े|  

इस योजना के अंतर्गत 30,000 रुपये पाने के लिए आपको क्या करना होगा

राजीव गाँधी किसान न्याय योजना उन सभी लोगों के लिए है जो धान, मक्का, गन्ने की फसल उगाते हैं| कोरोनावायरस के दौरान किसानों को भारी दिक्कतों का सामना करना पढ़ा है, इसलिए ही इस योजना की शुरुवात की गयी है|    

आवेदन पत्र (एप्लीकेशन फॉर्म) ऑनलाइन होंगे या ऑफलाइन

राजीव गाँधी किसान न्याय योजना एक डायरेक्ट बेनिफिट ट्रांसफर (DBT) स्कीम  है| इस योजना के कोई भी ऑनलाइन या ऑफलाइन एप्लीकेशन फॉर्म नहीं हैं| राज्य सरकार ने धान, मक्का और गन्ना किसानों को चिन्हित करके उनका एक डाटाबेस तैयार कर रखा है| उसी लिस्ट के आधार पर स्वतः ही किसानों के खाते में ये रकम पहुँच जाएगी|       

पंजीकरण करने के लिए पात्रता क्या होगी

जैसा की हमने आपको बताया है की राजीव गाँधी किसान न्याय योजना का कोई पंजीकरण फॉर्म नहीं है| इस स्कीम का लाभ उठाने के लिए मात्र छत्तीसगढ़ का निवासी होना आवश्यक है, साथ ही किसान भी होना चाहिए| महत्त्वपूर्ण बात ये है की राजीव गाँधी किसान न्याय योजना स्कीम का लाभ केवल धान, मक्का, गन्ना के उत्पादक किसान ही ले सकते है|       

लाभार्थी सूची (लिस्ट) कब आएगी

राजीव गाँधी किसान न्याय योजना में सरकारी डेटाबेस के आधार पर न्यूनतम आय वितरण का प्रावधान किया गया है| यह लाभार्थी सूची (लिस्ट) सार्वजनिक नहीं की जाएगी| हालांकि जो भी किसान पात्रता को पूरा करते हो, वह अपना बैंक खाता की डिटेल देख सकते हैं| 

राजीव गाँधी किसान न्याय योजना क्या है 

दरअसल कांग्रेस ने 2500 रुपए की दर से किसानों से धान खरीदने की बात की थी लेकिन केंद्र सरकार ने बोनस देने के लिए सहमति नहीं दी तो भूपेश सरकार ने अलग योजना बनाकर किसानों को धान के मूल्य के बदले में नगद राहत देने का फैसला किया। इसी के तहत किसान न्याय योजना को राजीव गांधी की पुण्यतिथि के अवसर पर प्रारंभ किया गया है। इस योजना के तहत धान तथा मक्का किसानों को अधिकतम 10 हजार रुपए प्रति एकड़ दिया जाएगा। इसी तरह गन्ना किसानों को 355 रुपए प्रति क्विंटल की दर से भुगतान किया जाएगा।

मुख्यमंत्री ने आगे कहा कि योजना के दूसरे चरण में भूमिहीन श्रमिकों को भी शामिल करेंगे। इसके लिए अधिकारियों की एक कमेटी बना रहे हैं। जो इस पूरी कार्ययोजना को तैयार करते हुए इसे मंत्रिमंडल को पेश करेगी। आने वाले 4 सालों में छत्तीसगढ़ से गरीब राज्य होने का कलंक मिटाने में सफल होंगे।

योजना के उद्घाटन कार्यक्रम में किसानों को पहली किस्त के रूप में 1500 करोड़ रुपए की राशि दी जा रही है। 5700 करोड़ रुपए की राशि चार किस्तों में सीधे किसानों के खाते में जाएगी। इस योजना से 9 लाख 53 हजार 706 सीमांत कृषक, 5 लाख 60 हजार 284 लघु कृषक और 3 लाख 20 हजार 844 बड़े किसानों को लाभ मिलने का दावा किया गया है। इस योजना में राज्य सरकार ने खरीफ 2020 के लिए धान, मक्का, सोयाबीन, मूंगफली, तिल, अरहर, मूंग, उड़द, कुल्थी, रामतिल, कोदो, कोटकी और रबी में गन्ना फसल को शामिल किया है।

No comments:

Post a comment