YOGIYOJANA.CO.IN : सरकारी योजनाओं की जानकारी हिंदी और अंग्रेजी में, सरकारी योजना : Sarkari Yojana in Hindi / English | प्रधानमंत्री व राज्य सरकार की योजनाएं 2020​

Wednesday, 14 October 2020

भारत के हर राज्य के राशन कार्ड शिकायत हेल्पलाइन (टोल फ्री / लैंडलाइन) नंबर | Ration Card Complaint Helpline Numbers (Toll Free / Landline) of All Indian States for Grievance Registration

**मेरे प्यारे साथियों** आज हम आपको राशन कार्ड शिकायत हेल्पलाइन (टोल फ्री / लैंडलाइन) नंबर के बारे में बताने जा रहे है। राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम (NFSA) की आधिकारिक वेबसाइट nfsa.gov.in पर भारत के हर राज्य के राशन उपभोक्ताओं के लिए अलग-अलग टोल-फ्री नंबर दिए गए है। इस आर्टिकल में हम आपको इंडिया के सभी राज्य जैसे उत्तर प्रदेश, राजस्थान, बिहार, आंध्र प्रदेश, हरियाणा आदि के राशन कार्ड शिकायत संपर्क नंबर की पूरी सूची उपलब्ध कराएंगे। केंद्र सरकार के NFSA के आधिकारिक पोर्टल पर लोग राशन कार्ड डीलर के बारे में ऑनलाइन शिकायत दर्ज कर सकते है। देश के अलग-अलग जगहों से खाद्यान्न वितरण (Food Distribution) को लेकर बहुत ही शिकायते आ रही है। भारत में खाने की चीजों की कमी और भृष्टाचार के आरोपों की शिकायत पर प्रधान मंत्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने कड़ा रुख अपनाया है। गरीबों को उनके हिस्से का राशन पहुंचे, इसके लिए राशन कार्ड शिकायत हेल्पलाइन नंबर दिए गए हैं।
 
राशन कार्ड धारक, राशन डीलर और किसान अब शिकायत प्रबंधन प्रणाली से जुड़कर अपनी शिकायते और सभी दिक्कते निःशुल्क मोबाइल नंबर पर भेज सकते हैं। राशन से जुडी सभी शिकायतों का रिकॉर्ड रखा जाएगा, उनका निपटारा किया जाएगा और साथ ही शिकायत करने वाले को सूचित भी किया जाएगा। केंद्र सरकार ने हर राज्य के लिए एक कॉल सेंटर स्थापित किया है जहां पर उपरोक्त मोबाइल नंबर अलावा फ़ोन करने के लिए एक अन्य मोबाइल नंबर पर फ़ोन करके या एसएमएस करके अपनी राशन डीलर संबंधी शिकायत कर सकते है। भारत सरकार ने लोगो से शिकायते भेजने की अपील की है ताकि सिस्टम को प्रभावी, पारदर्शी और जनता के प्रति जिम्मेदार बनाया जा सके और गरीब लोग अपने हिस्से का पूरा राशन ले सके।
जैसे कि आप जानते है कि कोरोना एक भयंकर महामारी है जिसकी वजह से पूरा देश परेशान है। लॉकडाउन के समय लोगो के पास काम-काज नहीं थे, सबके काम धंधे बंद पड़े थे, रोजी -रोटी कमाने में बहुत दिक्क़ते आ रही थी। देश में अब अनलॉक का दौर जारी है और देखा जा रहा है कि राशन डीलर कार्ड धारको के साथ-साथ बिना राशन कार्ड धारको को उनके हिस्से का अनाज और राशन देने में गड़बड़ी (आनाकानी) कर रहे है। सही से राशन कार्ड का सामान भी धारको को तोल कर नहीं देते है। इन्ही सभी दिक्क्तों को देखते हुए खाद्य एवं आपूर्ति विभाग द्वारा राशन कार्ड शिकायत हेल्पलाइन नंबर (Ration Complaint Helpline Number) शुरू किए गए है। 

सभी भारतीय राज्यों के राशन कार्ड शिकायत हेल्पलाइन (टोल फ्री / लैंडलाइन) नंबर - NFSA 

अगर उपभोक्ताओं को लगता है कि उनके हिस्से का अनाज डीलर ने कम दिया है या फिर उनके राशन में गड़बड़ी की है, तो राशन कार्ड धारक इन हेल्पलाइन नंबर पर फ़ोन करके डीलर की शिकायत कर सकते है। 
आपको अगर राशन डीलर से राशन न मिलने से कोई भी परेशानी हो तो आप सरकार के टोल -फ्री नंबर पर फ़ोन करके बता सकते है।

राष्ट्रीय खाद्य सुरक्षा अधिनियम - National Food Security Act (NFSA)

राशन वितरण को लेकर अगर आप को कोई भी शिकायत करना चाहते है तो एनएफएसए (NFSA) के वेबसाइट पर कर सकते है। इस nfsa.gov.in वेबसाइट पर मेल के जरिए और फ़ोन नंबर के जरिए शिकायत दर्ज किए जाते है। हर राज्यों का राशन कार्ड शिकायत दर्ज करने के लिए अलग-अलग टोल-फ्री नंबर है। एनएफएसए के आधिकारिक पोर्टल पर हेल्पलाइन नंबर पर आप अपने क्षेत्र के डीलर के बारे में शिकायत कर सकते है ताकि राशन डीलर कार्ड धारको के साथ राशन में हेरा-फेरी न कर सके। इन शिकायत हेल्पलाइन नंबर्स का मुख्य उद्देश्य राशन सुरक्षित एवं कम कीमत पर राशन कार्ड धारको को प्राप्त करवाना है। 

केंद्र सरकार ने लॉकडाउन के बाद से पीएम गरीब कल्याण अन्न योजना (आत्म-निर्भर भारत अभियान) के तहत लाखो प्रवासी मजदूरों को अनाज वितरित कर रही है। क्योकि प्रवासी मजदूरों के पास रोजी-रोटी के कोई साधन भी नहीं थे। प्रवासी मजदूर अपने घर परिवार का पालन-पोषण कैसे करे। इन्ही सभी बातों को देखते हुए सरकार ने 80 करोड़ लोगों को मुफ्त अनाज, दाल और राशन बांटा था जो अभी भी बांटा जा रहा है। परन्तु इस दौरान ऐसी शिकायते सामने आयी है कि जिसमे डीलर के द्वारा कम अनाज दिया जा रहा है।

राशन डीलर कार्ड धारको को राशन या तो बहुत कम देते है या राशन में बईमानी करते है। एक सवाल है की सरकार ने राशन डीलर को राशन धारको को बांटने के लिए दिया गया है या खुद अपने पास रखने के लिए दिया है जो की राशन धारको तक पहुँचता ही नहीं है। उपभोक्ता एवं खाद्य मंत्रालय की माने तो अनाज कम वितरण बताता है कि प्रवासी मजदूरों की वास्तविक संख्या बहुत कम थी फिर भी उन मजदूरों को राशन बहुत कम मिला। इसलिए अब गरीब लोगों को उनके हिस्से का पूरा राशन पहुँचाने के लिए इन शिकायत हेल्पलाइन नम्बरों को शुरू कर दिया है।   

मुफ्त राशन नहीं देने पर होगी सख्त कार्रवाई

अगर राशन डीलर कार्ड धारको को मुफ्त राशन नहीं देगा तो उसे सख्त कार्रवाई होगी। किसी कार्ड धारको को मुफ्त अनाज लेने में परेशानी आ रही है तो वह इसकी शिकायत संबंधित जिला खाद्य एवं पूर्ति नियंत्रक कार्यालय में या फिर राज्य उपभोक्ता सहायता केंद्र पर कर सकते है। इसके लिए सरकार ने टोल फ्री नंबर 1967 जारी किया है। उपभोक्ता अपनी शिकायत इन नम्बरो पर शिकायत दर्ज करवा सकते है। सभी राज्य सरकारों ने अलग से लैंडलाइन हेल्पलाइन नंबर भी जारी किए है। 

No comments:

Post a comment