New Sarkari Yojana List 2023 (नई सरकारी योजनाओं की सूची)

New Sarkari Yojana List 2023 (नई सरकारी योजनाओं की सूची)

प्रधानमंत्री मोदी एवं विभिन्न राज्य के मुख्यमंत्री द्वारा शुरू की गयी सभी योजनाएं, केंद्र व राज्य सरकार की योजनाएँ 2023, सरकारी योजना हिंदी और अंग्रेजी में योगी योजना वेबसाइट पर

Ek Station Ek Utpad Yojana 2023 - One Station One Product Scheme by Indian Railways | एक स्टेशन एक उत्पाद योजना की पूरी जानकारी

Indian Railways is implementing a new Ek Station Ek Utpad Yojana 2023. Under the one station one product (OSOP) scheme, 535 railway stations are already covered which will promote "Vocal for Local" vision of central government. एक स्टेशन एक उत्पाद योजना will provide a market for local/indigenous products and create additional income opportunities for the marginalized sections of society. Read this article till the end to know complete details of One Station One Product Scheme 2023.

About Ek Station Ek Utpad Yojana 2023

Under एक स्टेशन एक उत्पाद योजना scheme, OSOP outlets will be allotted at railway stations to showcase, sell and give high visibility to indigenous/local products. Allotment is done to all applicants on a rotation basis who meet objectives of Ek Station Ek Utpad Yojana. The pilot One Station One Product scheme was started earlier in March 2022.

Product Categories under एक स्टेशन एक उत्पाद योजना

The following product categories are included under एक स्टेशन एक उत्पाद योजना:-
  • Handicrafts/artefacts, 
  • Textiles and Handlooms,
  • Traditional garments,
  • Local agricultural produce / processed / semi processed foods

Objectives of One Station One Product Scheme

One Station One Product Scheme aims to encourage indigenous and specialized products and crafts of India by providing display and sale outlets on railway stations across the country. The OSOP products are specific to the place. The main objectives of Ek Station Ek Utpad Yojana are:-
  • To provide enhanced livelihood & welfare of local artisans, potters, weavers/handloom weavers, tribals etc. a marketing channel through the medium of earmarked space for stalls at platforms would be provided. 
  • To help in promotion of local items, handicrafts, artifacts, handlooms, etc. distinct to the particular area. 
Products under Ek Station Ek Utpad Yojana include artefacts made by indigenous tribes, handlooms by local weavers, handicrafts like world famous wood carving, chikankari and zari-zardozi work on clothes, or spices tea, coffee and other processed/semi processed food items/products indigenously grown in the area.

Scope of Ek Station Ek Utpad Yojana

The applicant will be allotted a temporary stall/kiosk/trolley for 15 days on deposition of Rs 1000/- with Railways. 

Stall / Kiosk / Sale Outlets by Indian Railways in OSOP Scheme

Indian Railways provides a stall / kiosk / sale outlets at identified railway stations for sale and promotion of items sourced from local manufacturers to improve their skills and livelihood.

एक स्टेशन एक उत्पाद योजना in Hindi

केंद्र सरकार की वोकल फॉर लोकल नीति के तहत रेलवे स्थानीय उत्पादों को बढ़ावा देने के लिए एक स्टेशन एक उत्पाद योजना 2023 चला रहा है। OSOP योजना के अंतर्गत रेलवे स्टेशनों पर उत्पादों की बिक्री के लिए कियोस्क स्थापित किये गए हैं। इन कियोस्क पर आवेदन करके लघु उद्यमी अपने प्रोडक्टों को बेच सकते हैं। Ek Station Ek Utpad Yojana की मुख्य विशेषता यह है कि प्रोडक्ट बेचने के लिए रेलवे नाममात्र राशि वसूल करेगा। हालांकि 15 दिनों के बाद यह कियोस्क अन्य उद्यमी को भी ट्रांसफर कर दिया जाएगा। हैंडीक्राफ्ट, चाट-पकौड़ी, लजीज व्यंजन, खिलौने जैसे स्थानीय उत्पाद रेलवे स्टेशनों पर मिला करेंगे। इससे लोग अपने सफर में विभिन्न क्षेत्रीय उत्पादों का लुत्फ उठा सकते हैं। 

स्टेशन अधीक्षक के पास जमा करें OSOP आवेदन

विभिन्न रेलवे स्टेशनों पर इस तरह के उत्पाद बिकने लगे हैं. इसीलिए अब विभिन्न उद्यमियों और छोटे व्यापारियों का रुझान इन कियोस्क पर पड़ने लगा है. जहां से स्थानीय उत्पाद बेचे जा सकते हैं. अगर कियोस्क लेने के लिए आवेदन करना चाहते हैं तो रेलवे स्टेशन के अधीक्षक के पास आवेदन कर सकते हैं. कोई भी इच्छुक व्यक्ति इस योजना के तहत आवेदन कर सकता है.

15 दिनों के लिए देना होगा एक हजार रुपये का शुल्क

15 दिनों तक सामान बेचने के लिए भारतीय रेलवे इस बढ़ती महंगाई में भी नाममात्र रुपये वसूल रहा है. 15 दिनों तक स्थानी उत्पाद बेचने का किराया सिर्फ एक हजार रुपये रखा गया है. इससे सस्ते में कोई व्यक्ति अपना माल भी बेच सकेगा. वहीं, 15 दिन बाद अन्य व्यक्ति को कियोस्क मिलेगा तो वह भी अपना रोजगार कर पाएगा. एक स्टेशन एक उत्पाद योजना इसी वर्ष शुरू की गई है. 
Ek Station Ek Utpad Yojana के तहत हैंडीक्राफ्ट, शिल्पकृति, टैक्सटाइल्स और हैंडलूम, ट्रेडिशनल गारमेंट्स, लोकल कृषि उत्पाद, प्रोसेस्ड फूड की कैटेगरी को प्राथमिकता दी जा रही है.

यात्रियों को लुभा रहे हैं स्थानीय प्रोडक्ट

देश के विभिन्न स्टेशनों पर यह सुविधा शुरू हुई तो यात्रियों को अब प्लेटफार्म पर एक नई वैरायटी मिलने लगी है. किसी स्टेशन पर उस जनपद की मशहूर चाट हो या मिठाई... यह यात्रियों को खूब लुभाते हैं. यही कारण है कि यात्री सफर के दौरान बेझिझके बेरोकटोक खर्च करते हैं और स्थानीय उत्पादों का आनंद लेते हैं. इससे मध्यम व्यवसायी वर्ग को संबल मिल रहा है.

Official Website of Indian Railways - https://indianrailways.gov.in/

Post a Comment

0 Comments